बोकारो इस्पात कारखाना के बारे में

बोकारो इस्पात कारखाना-राष्ट्र निर्माण में भागीदार

इतिहास

BOKARO STEEL PLANT

बोकारो इस्पात कारखान सार्वजनिक क्षेत्र में चौथा इस्पात कारखाना है। यह सोवियत संघ के सहयोग से 1965 में प्रारम्भ हुआ। आरम्भ में इसे 29 जनवरी, 1964 को एक लिमिटेड कम्पनी के तौर पर निगमित किया गया और बाद में सेल के साथ इसका विलय हुआ। पहले यह सेल की एक सहायक कम्पनी और बाद में सार्वजनिक क्षेत्र लोहा और इस्पात कम्पनियां (पुनर्गठन एवं विविध प्रावधान) अधिनियम 1978 के अंतर्गत एक यूनिट बनाई गई। कारखाने का निर्माण कार्य 6 अप्रैल, 1968 को प्रारम्भ हुआ। 

यह कारखाना देश के पहले स्वदेशी इस्पात कारखाने के नाम से विख्यात है। इसमें अधिकतर उपकरण, साज-सामान तथा तकनीकी कौशल स्वदेशी ही है। कारखाने का 17 लाख टन इस्पात पिण्ड का प्रथम चरण 2 अक्टूबर, 1972 को पहली धमन भट्टी चालू होने के साथ ही शुरू हुआ तथा निर्माण कार्य तीसरी धमन भट्टी चालू होने पर 26 फरवरी, 1978 को पूरा हो गया। 40 लाख टन चरण की सभी यूनिटें चालू हो चुकी हैं और 1990 के दषक में आधुनिकीकरण से कारखाने की क्षमता बढ़ाकर 45 लाख टन तरल इस्पात की कर दी गई है।

इसके स्टील मैल्टिंग शॉप-2 में जो नई सुविधाएं स्थापित की गईं उनमें 2 ट्विन स्ट्रैण्ड स्लैब कास्टर और एक स्टील रिफाइनिंग यूनिट शामिल हैं। स्टील रिफाइनिंग यूनिट का उद्घाटन 19 सितम्बर, 1997 और कंटीनुअस कास्टिंग मशीन का उद्घाटन 25 अपै्रल, 1998 को किया गया। हॉट स्ट्रिप मिल के आधुनिकीकरण के साथ ही कारखाने में उच्च दाब वाले डी-स्केलर, वर्क रोल बैन्डिंग, हाइड्रॉलिक ऑटोमेटिक गेज कन्ट्रोल, तुरन्त रोल परिवर्तन, लैमिनर कूलिंग आदि की सुविधा भी उपलब्ध हो गई है। नई वॉकिंग बीम, री-हीटिंग भट्टियां पुरानी कम कुशल पुशर भट्टियों का स्थान ले रही हैं।

बोकारो इस्पात कारखाना-राष्ट्र निर्माण में भागीदार  एक नया हाइड्रॉलिक कॉयलर भी लगाया गया है तथा पहले से काम कर रहे दो कॉयलरों में सुधार किया गया है। हॉटस्ट्रिप मिल के आधुनिकीकरण के पूरा होने के साथ ही अब बोकारो इस्पात कारखाना बहुत अच्छी किस्म के  हॉट रोल्ड उत्पाद तैयार कर रहा है तथा विश्व बाजार में उनकी अच्छी मांग है।

बोकारो में हॉट रोल्ड कॉयल, हॉट रोल्ड प्लेट, हॉट रोल्ड शीट, कोल्ड रोल्ड कॉयल, कोल्ड रोल्ड शीट, टिन मिल ब्लैक प्लेट (टीएमबीपी) और गेल्वेनाइज्ड प्लेन तथा कोरुगेटेड (जीपी/जीसी) शीट जैसे सपाट तैयार किए जाते हैं। कारखाने ने मोटरगाड़ी, पाइप और ट्यूब, एलपीजी सिलेण्डर, बैरल और ड्रम तैयार करने वाले उद्योगों सहित अनेक आधुनिकी इंजीनियरी उद्योगों के लिए एक सुदृढ़ कच्चा माल आधार तैयार किया है।

जनता - इसकी शक्ति

बोकारो इस्पात कारखाने की सभी संगठनात्मक गतिविधियों का केन्द्र बिन्दु इसके लोग हैं। बोकारो इस्पात की कथा बोकारो में रहने वाले लोगों द्वारा छोटा नागपुर के जंगलों में एक विशाल कारखाना स्थापित करने की गाथा है। यह कारखाना जो स्वछन्द युग की कड़ी चुनौतियों का सामना करते हुए एक के बाद दूसरा मील का पत्थर पार कर गया है और आज अपने आविष्कारिक कार्यों से शीर्ष तक पहुंच गया है।

दिशा निर्देश

बोकारो इस्पात कारखाने का उद्देश्य भारत में विश्व श्रेणी के सपाट उत्पादों का एक केन्द्र बनकर सामने आना है। कारखाने की आधुनिकीकरण योजनाओं के अन्तर्गत कुछ नई रोलिंग तथा कोटिंग सुविधाओं के साथ इसकी तरल इस्पात उत्पादन क्षमता बढ़ानी है। इन नई सुविधाओं से कारखाना अत्यन्त उच्च श्रेणी के ऐसे उत्पाद तैयार कर सकेगा जो उपभोगकर्ताओं की मांग पर खरे उतरते हों।

बोकारो ब्राण्ड का अर्थ होगा विश्वस्त क्वालिटी और समय पर माल का प्रेषण, उपभोक्ताओं को उनके पैसे का मूल्य उपलब्ध कराना।

हमसे संपर्क करें

  संजय तिवारी 
वरिष्ठ प्रबंधक (जनसंपर्क) 
दूरभाष: 91-6542-240339
फैक्स: 91-6542-240227
ई मेल: prboksteel@gmail.com

Set Order: 
1
Go to Top
Copyright © 2012 SAIL, all rights reserved
Designed & Developed by Cyfuture