आईआईएससीओ स्टील प्लांट के बारे में

इस्को स्टील प्लांट (आईएसपी)

बर्नपुर स्थित इस्को स्टील प्लांट एक एकीकृत इस्पात कारख़ाना है और इसमें प्रति वर्ष 42.6 लाख टन विक्रेय तथा 25.4 लाख टन कच्चा लोहा तैयार करने की क्षमता है। भूतपूर्व इंडियन आइरन एंड स्टील कंपनी, (आईआईएससीओ) का, जो पहले स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) की एक 100% सहायक कंपनी थी, 16 फरवरी 2006 को स्वामी कंपनी में विलय कर दिया गया था।

इस्को में अनेक प्रकार की संरचनाएं और विशेष सेक्शन तथा कच्चा लोहा तैयार किया जाता है। इस कारखाने में माल डिब्बों को बनाने में प्रयोग किए जाने वाले सील-ज़ेड सेक्शन और बांध, पुलों आधार व अन्य परियोजनाओं तथा खदानों के आर्च और उनकी छत को सहारा देने के लिए इस्तेमाल होने वाले ज़ेड-किस्म की शीट पाइलिंग सेक्शन बनाने शुरू किए गए। यहाँ छोटे व्यास के राउंड (10 मिमी और टीएमटी) भी विकसित किए गए हैं। इनकी स्वदेशी बाज़ार में भारी मांग है।

कारख़ाना आधुनिकीकरण व विस्तार के लिए तैयार है। इसके पश्चात कारखाने की तप्त धातु क्षमता 2011-21 तक बढ़ाकर 25 लाख टन कर दी जाएगी।

आईएसपी को अपनी हेवी स्ट्रक्चरल मिल तथा मर्चेन्ट एवं रॉड मिल के लिए आईएसओ 90012000 क्वालिटी प्रमाणपत्र प्राप्त है। इसे सम्पूर्ण रोलिंग मिल कॉम्प्लेक्स के लिए पर्यावरण प्रबंधन हेतु आईएसओ 140012004 प्रमाणपत्र भी प्रदान किया गया है।

कारख़ाना स्थल

आईएसपी पश्चिम बंगाल में बर्धमान जिले मे आसनसोल के निकट बर्नपुर में स्थित है।

इतिहास

आईएसपी की स्थापना 1874 में जेम्स एरस्किन द्वारा कुल्टी (पश्चिम बंगाल) में कच्चा लोहा उत्पादन के लिए लगाए गए बंगाल आइरन वर्क्स से देखी जा सकती है। 1918 में बर्न एंड कंपनी द्वारा प्रायोजित भूतपूर्व इस्को कई हाथ बदलने के बाद अस्तित्व में आया। 1939 में बर्नपुर में इस्पात निर्माण शुरू किया गया। 1960 के दशक के मध्य में इस कारखाने में उद्योगपति, सर बिरेन मुखर्जी की अध्यक्षता में यह कारख़ाना 10 लाख टन इस्पात बना रहा था। 4 जुलाई 1972 को भारत सरकार ने कंपनी का अधिग्रहण कर लिया। मार्च 1979 में इसे सेल के पूर्णत स्वामित्व वाली कंपनी बना दिया गया। एक समय था जब भूतपूर्व इस्को के शेयर लंदन स्टॉक एक्सचेंज में खरीदे-बेचे जाते थे। 1960 के प्रारम्भिक वर्षों में कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज में कंपनी के शेयरों का नाम आदर से लिया जाता था।

बर्नपुर में सुविधाएं

कोक ओवन

यहाँ दो कोक ओवन बैटरियाँ हैं, जिनमें से प्रत्येक की ऊंचाई 4.5 मीटर और क्षमता 18.6 टन सूखा कोयला तैयार करने की है।

धमन भट्टी

दो धमन भट्टियाँ है जिनमें से प्रत्येक का आयतन 1170 घन मीटर है।

स्टील मेल्टिंग शॉप

2x110 टन की एक ट्विन हर्थ भट्टी।

रोलिंग मिल

32 सोकिंग पिट

ब्लूमिंग मिल क्षमता 9 लाख टन प्रति वर्ष

बिलेट मिल क्षमता 8 लाख टन प्रति वर्ष

हेवी स्ट्रक्चरल मिल क्षमता 2.5 लाख टन प्रति वर्ष

लाइट स्ट्रक्चरल मिल क्षमता 1.2 लाख टन प्रति वर्ष

मर्चेन्ट एंड रॉड मिल क्षमता 1.5 लाख टन प्रति वर्ष

सुविधाएं

प्रदूषण नियंत्रण

प्रदूषण नियंत्रण मण्डल के मापदण्डों का अनुसरण करने के उद्देश्य से यहाँ सभी पर्यावरण मानदंड जैसे एसपीएम, एसओएक्स, एनओएक्स, जल परीक्षण नियमित तौर पर किए जाते हैं। विभाग में परीक्षण की नवीनतम सुविधाएं उपलब्ध हैं।

कंप्यूटर सेवाएँ

एचपी-यूएक्स के अंतर्गत सीए-ओपन इंगरस आरडीबीएमएस पर आधारित कम्प्यूटरीकृत एकीकृत रख-रखाव और सामग्री प्रबंधन प्रणाली (आईएमएमएमएस)।

वित्त विभाग में ओरेकल आरडीबीएमएस चला रहा सन सोलेरिस नेटवर्क।

शिक्षा

आईएसपी 3 उच्चतम माध्यमिक, 1 माध्यमिक और 4 प्राथमिक स्कूल चला कर 7,000 से अधिक छात्रों को रियायती दर पर शिक्षा उपलब्ध करा रहा है। इसके अलावा, कंपनी एक अँग्रेजी माध्यम से शिक्षा प्रदान करने वाले सह-शिक्षा सीबीएसई स्कूल को, जिसमें 2000 से अधिक बच्चे हैं, सहायता भी प्रदान कर रही है।

स्वास्थ्य की देखरेख

कंपनी का एक 500 बिस्तरों वाला केंद्रीय अस्पताल है, जिसमे ओटी, आईसीयू, आईसीसीयू, डायलिसिस यूनिट, दन्त, ब्लड बैंक, फिजियोथेरेपी आदि आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त सभी इस्पात नगरियों में क्लीनिक और संयंत्रों में व्यावसायिक स्वास्थ्य केंद्र कार्य कर रहें हैं।

संपर्क करें

इस्को स्टील प्लांट
श्री भास्कर कुमार,
संचार प्रमुख,
जन-संपर्क विभाग,
7, दी रिज, बर्नपुर
ईमेल kbhaskar7@rediffmail.com
टेली 91 - 0341 – 2240343
फ़ैक्स 91 - 0341 - 2241506

Set Order: 
1
Go to Top
Copyright © 2012 SAIL, all rights reserved
Designed & Developed by Cyfuture