अध्यक्ष का संबोधन-2005