प्रधानमंत्री ने आधुनिक एवं विस्तारित इस्को इस्पात संयंत्र, बर्नपुर को राष्ट्र को समर्पित किया

City Name: 
नई दिल्ली
Release Date: 
Sun, 05/10/2015 - 16:52

नई दिल्ली/बर्नपुर, मई 10 2015: माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रमोदी ने आज सेल के आधुनिक व विस्तारित इसको इस्पात संयंत्र (आईएसपी) बर्नपुर को एक शानदार समारोह में आज राष्ट्र को समर्पित किया, जिसमें लगभग पूरे क्षेत्र के लगभग एक लाख लोगों ने भाग लिया।

इस ऐतिहासिक अवसर पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल श्री केशरी नाथ त्रिपाठी, राज्य की मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी, केन्द्रीय इस्पात एवं खनन मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर, केन्द्रीय राज्य इस्पात एवं खनन मंत्री श्री विष्णु देव साई, केन्द्रीय राज्य शहरी विकास मंत्री श्री बाबुल सुप्रियो, सचिव स्टील श्री राकेश सिंह एवं सेल के प्रमुख श्री सीएस वर्मा के साथ सेल से कई वरिष्ठ अधिकारी व केंद्र व राज्य सरकार से भी अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

रूपए 17000 करोड़ के निवेश के साथ आईएसपी के आधुनिकीकरण व विस्तार कार्यक्रम से न केवल आईएसपी की इस्पात निर्माण की क्षमता 0.5 मिलियन टन से पांच गुना बढ़कर 2.5 मिलियन सालाना टन हो जाएगी बल्कि वह हरित व उच्च गुणवत्ता वाले स्टील के निर्माण के युग का आरम्भ भी होगा। यह संयंत्र जो कभी देश में इस्पात निर्माण में अग्रणी हुआ करता था, वह अब पूरी तरह स्टील निर्माण के सभी सभी पहलुओं को समेटे हुए एक अत्याधुनिक एकीकृत इस्पात संयंत्र में बदल चुका है, कच्चे माल से लेकर फिनिशिंग मिल के प्रबंधन तक।

समारोह से पूर्व माननीय प्रधानमंत्री ने 4160 कम ब्लास्ट फर्नेस कल्याणी का भी दौरा किया, जो देश में सबसे बड़ी ब्लास्ट फर्नेस और उन्होंने इसके कामकाज के बारे में रूचि का प्रदर्शन किया। फर्नेस को पोस्को तकनीक से बनाया गया है, और इसमें कई अत्याधुनिक विशेषताएँ हैं जो कम कार्बन फुटप्रिंट लौह निर्माण में योगदान करती हैं।

इस नई ब्लास्ट फर्नेस के अतिरिक्त आईएसपी में जो नई सुविधाएं हैं वे हैं, 7 मीटर लम्बी कोक ओवन बैटरी, कोक ड्राई कूलिंग संयंत्र के साथ, दो 210 वर्गमीटर का सिनास्टर संयंत्र, तीन 150 टी बेसिक ऑक्सिजन फर्नेस (बीओएफ) वेसेल, दो निरंतर बिलेट कैस्टर, एक बीम ब्लैंक कम ब्लूम कास्टर, एक वायर रोड मिल, बार मिल और एक यूनिवर्सल सेक्शन मिल सम्मिलित हैं।

आईएसपी के नए संयंत्र का निर्माण केवल 950 एकड़ में किया गया है जो इसे उद्योग के मानकों के द्वारा दुनिया के सबसे सघनित संयंत्रों में से एक बनाता है। आधुनिक व विस्तारित संयंत्र उच्च गुणवत्ता वाले रेबारो को उत्पन्न करता है, जिसमें भूकंप रोधी ग्रेड, वायर रॉड और यूनिवर्सल सेक्शन का निर्माण होगा जिनमें भारत के विकसित होते संरचना और निर्माण क्षेत्र की आवश्यकता को पूरा करने के लिए पैरेलल फ्लैंज्ड बीम सम्मिलित हैं।

अपने संबोधन में माननीय प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के निर्माण में सेल के योगदान की भी पुष्टि की। उन्होंने देश के औद्योगिक और आर्थिक विकास में भारतीय इस्पात उद्योग की महत्ता और उसकी महत्वपूर्ण भूमिका को और मेक इन इण्डिया अभियान में उद्योग की महत्त को भी बताया। उन्होंने यह भी कहा कि देश की अर्थव्यवस्था एक नई उड़ान भरने के लिए तैयार है और देश के त्वरित विकास के लिए देश में इस्पात की आवश्यकता की पूर्ति के लिए इस्पात क्षेत्र को तैयार हो जाना चाहिए। आईएसपी के आधुनिकीकरण व विस्तार ने मेक इन इण्डिया के सपने को गति दी है।

केन्द्रीय इस्पात व खनन मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मेक इन इण्डिया के सपने को साकार करने के लिए इस्पात उद्योग की महत्ता पर जोर दिया और देश में 300एमटीपीए का निर्माण करने के लक्ष्य की पूर्ति करने में सेल की महत्वपूर्ण भूमिका पर भी जोर दिया। आधुनिक आईएसपी 50एमटीपीए की कुल क्षमता तक विस्तार करने के लिए सेल की योजना के रूप में अपनी क्षमता का विस्तार 5.5 एमटीपीए करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा।

मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी ने आईएसपी बर्नपुर और दुर्गपुर इस्पात संयंत्रों के वर्तमान अधुनिकीकरण के माध्यम से राज्य औद्योगिक विकास के लिए बढावा देने के लिए सेल के योगदान पर प्रकाश डाला। उन्होंने याद दिलाया कि आईएसपी ने ही बंगाल में औद्योगिक क्रान्ति का बीज बोया था। सुश्री ममता बनर्जी ने सेल को पश्चिम बंगाल में हर प्रकार के सहयोग का वादा किया।

इस समारोह का आरम्भ श्री बाबुल सुप्रियो, केन्द्रीय राज्य शहरी विकास मंत्री, द्वारा स्वागत भाषण से हुआ था तो वहीं उसका समापन केन्द्रीय राज्य इस्पात व खनन मंत्री श्री विष्णु देव साई के द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव के साथ हुआ।

प्रधानमंत्री ने आधुनिक एवं विस्तारित इस्को इस्पात संयंत्र, बर्नपुर को राष्ट्र को समर्पित किया

 

 

प्रधानमंत्री ने आधुनिक एवं विस्तारित इस्को इस्पात संयंत्र, बर्नपुर को राष्ट्र को समर्पित किया

 

Select List Order: 
1
Go to Top
Copyright © 2012 SAIL, all rights reserved
Designed & Developed by Cyfuture